दुर्गा चालीसा

दुर्गा चालीसा 

सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके ।
शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

|| चौपाई ||

नमो नमो दुर्गा सुख करनी |
नमो नमो अम्बे दुखहरनी ||

निराकार है ज्योति तुम्हारी |
तिहूं लोक फैली उजियारी ||

शशि ललाट मुख महाविशाला |
नेत्र लाल भुकुटी विकराला ||

रूप मातु को अधिक सुहावे |
दरस करत जन अति सुख पावे ||

तुम संसार शक्ति लय कीना |
पालन हेतु अत्र धन दीना ||

अत्रपूर्णा हुई जगपाला |
तुम ही आदि सुन्दरी बाला ||

प्रलयकाल सब नाशन हारी
तुम गौरी शिवशंकर प्यारी ||

शिवयोगी तुम्हारे गुण गावे |
ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें ||

रूप सरस्वती का तुम धारा |
दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा ||

धरयो रूप नरसिंह को अम्बा |
प्रगट भई फाड़ के खम्भा ||

रक्षा कर प्रहलाद बचायो |
हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो ||

लक्ष्मी रूप धरो जगमाहीं |
श्री नारायण अंग समाही ||

क्षीर सिंधु में करत बिलासा |
दया सिंधु कीजे मन आशा ||

हिंगलाज में तुम्ही भवानी |
महिमा अमित न जात बखानी ||

मातंगी धूमावति माता |
भुवनेश्वरी बगला सुखदाता ||

श्री भैरव तारा जगतारिनि |
छिन्न भाल भव दुःख निवारिनि ||

केहरि वाहन सौह भवानी |
लंगुर बीर चलत अगवानी ||

कर में खप्पर खंग बिराजे |
जाको देखि काल डर भाजे ||

सोहे अस्त्र शस्त्र और तिरशूला |
जाते उठत शत्रु हिय शूला ||

नव कोटि में तुम्हीं विराजत |
तिहूं लोक में डंका बाजत ||

शुंभ निशुम्भ दानव तुम मारे |
रक्त बीज संखन संहारे ||

महिषासुर नृप अति अभिमानी |
जोहि अघ भारि मही अकुलानी ||

रूप कराल कालिका धारा |
सेन सहित तुम तेहि संहारा ||



परी गाढ़ सन्तन पर जब जब |
भई सहया मातु तुम तब तब ||

अमरपुरी अरु बासव लोका |
तव महिमा सब रहे अशोका ||

ज्वाला मैं है ज्योति तुम्हारी |
तुम्हें सदा पूजत नरनारी ||

प्रेम भक्ति से जो नर गावै |
दुःख दारिद्र निकट नहिं आवे ||

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई |
जन्म मरन ते सो छुटी जाई ||

योगी सुरमुनि कहत पुकारी |
योग न होय बिन शक्ति तुम्हारी ||

शंकर आचरज तप कीनो |
कामहु क्रोध जीत सब लीनो ||

निशिदिनि ध्यान धरत शंकर को |
काहू काल नहीं सुमिरो तुमको ||

शक्ति रूप को मरम न पायो |
शक्ति गई तब मन पछतायो ||

शरणागत हुई कीर्ति बखानी |
जय जय जय जगदम्ब भवानी ||

भई प्रसत्र आदि जगदम्ब |
दई शक्ति नहीं कीन विलंबा ||

मोको मातु कष्ट अति धेरो |
तुम बिन कौन हरे दुःख मेरो ||

आशा तृष्णा निपट सतावै |
रिपु मुरख हो अति डर पावै ||

शत्रु नाश कीजे महारानी |
सुमिरो इक चित्त तुम्हें भवानी ||

करो कृपा हे मातु दयाला |
ऋद्धि सिद्धि दे करहू निहाला ||

जब लगि जियो सदा फलपाउं |
सब सुख भोग परमपत पाउं ||

‘देवीदास’ शरण निज जानी |
करहू कृपा जगतम्ब भवानी ||

|| दोहा ||

शरणागत रक्षा करे, भक्त रहे निशंक |
मै आया तेरी शरण में, मातु लीजिये अंक ||

।। इति श्री दुर्गा चालीसा समाप्त ।।



Check Also

बिना कुछ इन्वेस्ट किये कैसे earning करे और अपना business शुरू करे –

HOW TO EARN MONEY आज हम बात करेंगे ऐसे बिज़नस कि जिसमे आप बिना इन्वेस्ट …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *